HomeNewsSawan 2022: सावन का महीना शुरू, भूलकर भी शिवलिंग पर न चढ़ाएं...

Sawan 2022: सावन का महीना शुरू, भूलकर भी शिवलिंग पर न चढ़ाएं ऐसी 7 चीजें, पूजा का नहीं मिलेगा पूर्ण फल

14 जुलाई से शुरू हुआ श्रावण मास। यह महीना भगवान शिव कोष्टक है और इस पूरे महीने में शिव भक्त भोलेनाथ की विशेष पूजा करते हैं, बदले में सदाशिव उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। शास्त्रों के अनुसार इन दिनों शिवलिंग पर बेलपत्र, धतूरा, चंदन, अक्षत, शमीपात्र आदि कई शुभ वस्तुएं रखी जाती हैं, भगवान शंकर शीघ्र प्रसन्न होते हैं। शिवपुराण के अनुसार भगवान शिव को तुलसी, हल्दी और सिंदूर सहित इन 7 वस्तुओं का ही भोग लगाना चाहिए।

केतकी फूल

शिवपुराण की कथाओं के अनुसार केतकी फूल ने ब्रह्मा जी के झूठ का समर्थन किया था, जिससे क्रोधित होकर भोलनाथ ने केतकी फूल को श्राप दे दिया और कहा कि शिवलिंग पर केतकी का फूल कभी नहीं चढ़ाया जाएगा। अशुभ माना जाता है।

तुलसी दली

तुलसी दल के बिना भगवान विष्णु की पूजा पूरी नहीं होती थी, लेकिन भगवान शिव की पूजा में तुलसी की दाल का उपयोग वर्जित माना जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान शिव ने तुलसी के पति असुर जालंधर का वध किया था। इसलिए वे स्वयं भगवान शिव को उनके अलौकिक और दैवीय गुणों से वंचित कर देते हैं।

शिवलिंग पर न चढ़ाएं हल्दी

शिव जी को कभी नहीं चढ़नी चाहिए हल्दी हल्दी को स्त्री से संबंधित माना गया है और शिवलिंग पुरुषत्व का प्रतीक है जैसे शिव जी की पूजा में हल्दी का प्रयोग करने से पूजा का फल नहीं मिलता है। इसलिए शिवलिंग पर हल्दी नहीं चढ़ाई जाती है। यह भी माना जाता है कि हल्दी के गर्म प्रभाव के कारण इसे शिवलिंग पर चढ़ाना वर्जित माना जाता है, इसलिए शिवलिंग पर बेलपत्र, भांग, ग़ज़ल, चंदन, कच्चा दूध जैसी ठंडी वस्तुएँ अर्पित की जाती हैं।

शंख जल

उस शंख के अत्याचार से देवता व्याकुल हो उठे। भगवान शंकर ने उनका वध किया, जिसके बाद उनका शरीर भस्म हो गया, उसी राख से शंख की उत्पत्ति हुई। शिवाजी ने शंख का वध किया था इसलिए शिवाजी को कभी भी शंख से जल नहीं चढ़ाया जाता है।

RELATED ARTICLES

STAY CONNECTED

Latest News