HomeTech & Mobiles5G Spectrum Auction : आज अगली पीढ़ी के इंटरनेट के लिए कंपनियां...

5G Spectrum Auction : आज अगली पीढ़ी के इंटरनेट के लिए कंपनियां लगाएंगी बोली, जानें कब तक शुरू होगा 5जी नेटवर्क?

नई दिल्ली। भारत आज की तरह इंटरनेट की पांचवीं पीढ़ी की ओर बढ़ चुका है। देश की प्रमुख दूरसंचार कंपनियां दूरसंचार विभाग (DoT) की देखरेख में 5G स्पेक्ट्रम के लिए बोली लगा रही हैं।

सरकार ने मंगलवार को देश में 5जी नेटवर्क सेवाएं शुरू करने के लिए स्पेक्ट्रम नीलामी शुरू की। यह प्रक्रिया सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक चलेगी। नीलामी में रिलायंस जियो, भारती एयरटेल, वोडाफोन आइडिया और नए खिलाड़ी अदानी डेटा नेटवर्क ने हिस्सा लिया है। सरकार ने 5जी नेटवर्क के लिए 72,000 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की नीलामी शुरू कर दी है। सरकार को इसके जरिए कुल 4.3 लाख करोड़ रुपये जुटाने की उम्मीद है। पहली नीलामी से सरकार को लगभग रु. 1 लाख करोड़ मिलने की उम्मीद है।

साल के अंत तक मिलेगी यह सुविधा
नीलामी में शामिल भारती एयरटेल के मुख्य तकनीकी अधिकारी (सीटीओ) रणदीप सेखों ने कहा कि आज स्पेक्ट्रम नीलामी प्रक्रिया पूरी होने के बाद, अगर सब कुछ ठीक रहा, तो 5जी सुविधा 2022 के अंत या 2023 की शुरुआत में चालू हो जाएगी। हमारा लक्ष्य स्पेक्ट्रम अधिग्रहण के 2 से 4 महीने के भीतर ग्राहकों को 5जी सेवा देना है।

इंटरनेट की स्पीड 10 गुना बढ़ जाएगी
टेलीकॉम कंपनियां उपभोक्ताओं को 5जी नेटवर्क देने के लिए मिड और हाई बैंड स्पेक्ट्रम खरीद रही हैं। ये बैंड 4जी की मौजूदा स्पीड की तुलना में इंटरनेट स्पीड को 10 गुना तक बढ़ाने की क्षमता रखते हैं। मिड-रेंज स्पेक्ट्रम 3.3-3.67 गीगाहर्ट्ज़ की रेंज में होगा, जबकि हाई बैंड में 26 गीगाहर्ट्ज़ स्पेक्ट्रम शामिल है। कंपनियों को यह स्पेक्ट्रम 20 साल के लिए दिया जाएगा।

किस कंपनी का प्रारंभिक निवेश अधिक है
हालांकि सभी कंपनियां देश में 5जी नेटवर्क लॉन्च करने की होड़ में हैं, लेकिन रिलायंस जियो ने इसके लिए सबसे ज्यादा रकम जमा की है। कंपनी नीलामी से पहले ही डीओटी के पास 14 हजार करोड़ रुपये जमा कर चुकी है। दूसरा आता है भारती एयरटेल, जिसके पास रु। 5500 करोड़ जमा किए गए हैं। इसके बाद Vodafone Idea ने 2200 करोड़ रुपये और अदानी नेटवर्क ने 100 करोड़ रुपये जमा किए हैं।

भारती एयरटेल के चेयरमैन सुनील मित्तल ने कहा, कंपनी 5जी नेटवर्क सुविधा शुरू करने के लिए तैयार है। इस शक्तिशाली नेटवर्क के माध्यम से यह देश की डिजिटल अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने में मदद करेगा।

RELATED ARTICLES

STAY CONNECTED

Latest News